ब्लॉक का विवरण

निवास
पूरा पता:
बस स्टैंड निवास के समीप निवास मंडला
जिला:
मंडला
पिन कोड:
481885
फ़ोन नंबर:
7770888934
फैक्स नंबर:
7641231243
ईमेल आईडी:
ceojpniwas@gmail.com
परिचय और ब्लॉक का संक्षिप्त इतिहास:

जनपद पंचायत निवास, निवास अनुविभाग के अंतर्गत आता है यह जिला मुख्‍यालय से 65 किमी की दूरी पर उत्‍तर की ओर तथा जबलपुर से 65 किमी की दूरी पर स्थि‍त है निवास में 35 ग्राम पंचायत और 95 गांव सम्मिलित हैं।  प्रदेश का प्रमुख औद्योगिक क्षेत्र मनेरी निवास जनपद के अंतर्गत ही आता है । 

जन प्रतिनिधि:
NA
NA
संपर्क करे - 00000000
ब्लॉक प्रशासन:
ओम प्रकाश शर्मा
मुख्य कार्यपालन अधिकारी
संपर्क करे - 9424789560
सार्वजनिक समारोहों व मेला, धार्मिक स्थानों और सूत्रों का कहना है:
जनसंख्या के आँकड़े:

कुल  जनसंख्या    :  63884

कुल परिवार         :15233

कुल पुरुष  सदस्य    :31588

कुल महिला सदस्य :  32296

लिंगानुपात           :  999

अनुसूचित जाती सदस्य     :5001 (7.828%)

अनुसूचित जनजाति सदस्य :41800 (65.4311%)

अन्य पिछडा वर्ग सदस्य     :8109 (12.6933%)

 

स्वास्थ्य:
शिक्षा:
पर्यटन:
वन और पशु:
बैंक और वित्तीय संस्थांए:
कृषि:
ग्राम पंचायत, सरपंच और सचिव की सूची:
वविभिन्न विभागों की योजनाओ की स्थिति:

पशु चिकित्सा एवं पशुपालन विभाग निवास

    पशुपालन की गतिविधियों सस्ता व पौष्टिक आहार उपलब्ध कराने के अतिरिक्त ग्रामीण क्षेत्रो में विशेष कर भूमिहीन एवं छोटे किसानो व् महिलाओं में लाभकारी आजीविका के सृजन कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है | इस विभाग के द्वारा पशु चिकित्सा , पशुपालन , नस्ल सुधार, टीकाकरण , दुग्ध उत्पादन में बृद्धि के साथ साथ पशुओं व् उनके पालन सम्बंधित विज्ञान व ज्ञान का विस्तार कराया जाता है |

विभाग द्वारा संचालित योजनायें

  1. (10+1) बकरी इकाई बैंक ऋण योजना
  2. 75% अनुदान में सूकर त्रयी योजना
  3. वत्स्पालन प्रोत्साहन योजना
  4. 80% अनुदान में वकरा प्रदाय योजना
  5. गोपाल पुरुस्कार योजना
  6. समुन्नत पशु प्रजनन योजना अंतर्गत मुर्रा पाडा प्रदाय योजना
  7. नंदीशाला योजना अंतर्गत अनुदान पर प्रजनन योग्य गौ सांड प्रदाय योजना
  8. 80% अनुदान में बैकयार्ड कुक्कुट योजना

80% अनुदान में कडकनाथ कुक्कुट योजना

इस डिपार्टमेंट से सम्बंधित विस्तृत जानकारी के लिए आप विभाग की वेब साईट www.mpdah.gov.in में विजिट कर सकते है |

स्वच्छ भारत विभाग

सरकार ने 1986 में केन्द्रीय ग्रामीण स्वच्छता कार्यक्रम शुरू किया। इसका प्राथमिक उददेश्य ग्रामीण लोगों के जीवन स्तर को सुधारना और महिलाओं को निजात तथा प्रतिष्ठा प्रदान करना था। गरीबी रेखा से नीचे के परिवारों द्वारा निजी पारिवारिक शौचालय बनावाए जाने और उसका इस्तेमाल किये जाने की उनकी उपलबिधयों को मान्यता देने के लिए उन्हें वित्तीय प्रोत्साहन दिये गये। ठोस एवं तरल अपशिष्ट प्रबंधन के तहत क्रियाकलाप शुरू करने के अलावा विद्यालय शौचालय इकाइयों, आगनवाड़ी शौचालय और सामुदायिक स्वच्छता परिसरों के निर्माण के लिए भी सहायता का विस्तार किया गया।

इस अभियान को आधिकारिक तौर पर राजघाट, नई दिल्ली में 2 अक्टूबर 2014 को महात्मा गांधी की 145 वीं जयंती पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू किया गया था।

निवास जनपद के अंतर्गत 3 ग्राम पंचायतों को ODF कर दिया गया है , वर्तमान में प्रति दिन 15 शौचालय प्रति ग्राम पंचायत बनवाए जा रहे है |

ब्लॉक की फैक्ट फाइल:
फार्म और डाउनलोड:
«वापिस